अनिल अग्निहोत्री

धैर्य और साहस की कलात्मक अभिव्यक्ति

अभी-अभी अनामिका प्रकाशन प्रयागराज से सच्चिदानंद जोशी का कोई तेरह वर्षो बाद दूसरा काव्य संग्रह 'मैदान मत छोड़ना 'प्रकाशित हुआ है. इस सुदीर्घ अंतराल के बीच लेखक का एक कहानी संग्रह, सुरम्य रचनाओं के तीन बोध कथा संग्रह कुछ पुस्तकों के संपादन सहित अन्य कृतियाँ भी प्रकाश में आई हैं अतः यह कहना कि लेखक की लेखनी कुछ समय के लिये विराम ले गई थी या सृजन धर्मिता से कवि विमुख होगया थ....

Subscribe Now

पूछताछ करें