कैलाश बनवासी

सबकुछ  ठीक-ठाक है 

खूँटी से पे लटके अपने टी-शर्ट को बदन पर डालने के पहले उसे ख़याल आया, शायद दो दिन हो चुके हैं इसे पहनते हुए.इसे आगे पहनना ठीक होगा? उसके हाथ अपनेआप टी-शर्ट को उसकी नाक के पास ले गए... कपड़े से पसीने और दो दिन के अलसायेपन की उसे जानी-पहचानी —खासकर इन दिनों-- बासी बू उसे आई. फिर उसने खुद ही इस टेस्ट में अपने को पास कर दिया...यार,ऐसी भी बदतर बदबू नहीं है...आज के लिए काम चल सकता है...फिर अभी बस ....

Subscribe Now

पूछताछ करें