शैलेय

नील गगन में

आज रविवार है। आज के दिन वह थोड़ा आराम से ही उठता है। ये वैसे भी निपट जाड़े के दिन हैं। घने कोहरे के दिन। बल्कि कभी-कभी तो दिन के पूरे बारह-दो बज जाते हैं और अपने ठीक बगल में चल रहे आदमी तक को पहचानना कठिन हुआ रहता है।
दरअसल यह तराई का इलाका है। जाडे़ के मौसम में पूरे पखवाड़े-पखवाडे़ तक कोहरा यहां का अनिवार्य हिस्सा है। जिंदगी की चाल जैसे खुदबखुद धीमी हो आती है। वैसे भी रविवार भ....

Subscribe Now

पूछताछ करें