सन्तोष पटेल

जनकवि वरवर राव 

बहुत मुश्किल है कलम की ताकत को नकारना

बहुत मुश्किल है विचारों  को दफन करना

मुश्किल है कलम को तोड़ना

एक तोड़ो हजारों पनक जाएंगे

जैसे एक कलम से हजारों होते हैं बीज तैयार

देख लो एक आम के पेड़ की ओर

पता चलेगा एक कलम की ताक़त

अब तुम उसमें ....

Subscribe Now

पूछताछ करें