संजय कुमार सिंह

मानवीय इतिहास का पुनर्लेखन: ‘एकांत के सौ वर्ष’

मार्खेज का उपन्यास" एकांत के सौ वर्ष" न केवल लैटिन अमरीकी सभ्यता के इतिहास का बल्कि पूरे मानवीय इतिहास का पुनर्लेखन है। उसकी शैली को जादुई यथार्थवाद कहना उस पूरी दुनिया के निर्माण की प्रक्रिया, उसके आश्चर्य और कौतुक को नहीं समझ पाने की विवशता है।असल में सभ्यता के विकास और उसके साथ आविष्कारों की प्रक्रिया में सन्निहत मानवीय श्रम और चेतना के क्रमिक विकास को समझना भी ....

Subscribe Now

पूछताछ करें