मदन कश्यप 

बाबा नागार्जुन के पत्र मदन कश्यप के नाम

(एक)
25-5-1985
प्यारे मदन,
आपका पत्र--- बड़ी  प्रसन्नता हुई--- 5 के बाद
विस्तार-पूर्वक लिखूंगा।
हम तुम्हें अवसर याद करते हैं- शमीम को भी--- इधर 15 जुलाई तक हैं--- विस्तृत पत्र एक छात्र से (कु- किरण पांडे से) लिखवा लेता हूं।  हां, कुल्टी में हम आपके लिए अलग से समय नहीं निकाल पाए---
तुम्हारा
नागार्जुन
सी/श्री वाचस्पति
जहरीखाल, जि- गढ़वाल-246139
(उत्तर प्रदेश)

7-6-1985
डियर मदन,
Subscribe Now

पूछताछ करें