रक्षा गीता

स्त्री मन का प्रवेश द्वार 

प्राकृतिक रूप मेंस्त्री संरचनापुरुषों से अलग है,लेकिन पितृसत्तात्मक परिवेश ने भी उसकी देह और दिल को अपनी सुविधानुसार ढाला जो प्रकृति प्रदत नहीं,हर स्तर पर उसकीभावनाएं,संवेदनाएं सोच-विचारकी निर्मिती भी ही अलग की जाती है,इसलिए उसके भीतर का ‘दरद’ सिर्फ उसे ही मिलता है औरसमझ भी वही पाती है|पारिवारिक संस्था की चारदीवारी के भीतर ही कैद स्त्रीअंतर्मुखी होती गई,या यूं क....

Subscribe Now

पूछताछ करें