कमल चोपड़ा

सख्ती


शिकायत वा पस लेने के लिए पचास लाख रुपयों की डिमांड की थी डॉक्टर से महिला ने। महिला ने शिकायत की थी कि डॉक्टर ने उसके चेकअप के दौरान उसके साथ छेड़छाड़ और जबरदस्ती की। पुलिस को अपने नर्सिंग होम में आया देखकर डॉक्टर के पैरों के नीचे की जमीन खिसक गई। वह गिड़गिड़ाया, ‘‘मैं कोई ऐसा वैसा आदमी नहीं हूं। मैं शादी-शुदा हूं। दो बड़े-बड़े बच्चे हैं मेरे। मैं ऐसा करूंगा? मैं तो सोच भी नहीं सकता। मैं तो महिलाओं का सम्मान करता हूं। 
महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों के खिलाफ मैं खुद कई बार इंडिया गेट पर विरोध प्रदर्शनों में शामिल हुआ हूं और सख्त कानून की मांग करता रहा हूं। यह महिला यहां आई तो थी पर यहां ऐसी कोई बात नहीं हुई। यह मुझ पर सरासर झूठा इल्जाम लगा रही है।
सख्त और सूखे से लहजे में पुलसिये ने कहा-ऐसे मामलों में पुरुषों की कोई सुनवाई नहीं होती। आपने म्हारे साथ थाने चलणा पड़ेगा। औरत कह रही है तो हमें कारवाई करनी पड़ेगी! कई धाराएं लगेंगी। थाने की बेंच पर बैठे-बैठे डॉक्टर की रूह कांप रही थी। अपनी बनी बनाई इज्जत और अच्छी खासी शोहरत पर कालिख ही कालिख फिरती नजर आई और कानों में घृणा, उपहास, हिकारत और गालियों और थू-थू की आवाजें आ रही थीं ‘‘कहीं मुंह दिखाने लायक नहीं बचूंगा!’’
एक हट्टे-कट्ठे पुलसिये ने डॉक्टर को अलग ले जाकर कहा, ‘‘आप बुरी तरह फंस चुके हो। उस गंदी औरत का क्या है? उसका तो ये धंधा है। वह तो पहले भी ऐसे कई कांड कर चुकी है। अलग-अलग शहरों में बड़े-बड़े इज्जतदार आदमियों को फंसाकर पैसा ऐंठती है और निकल जाती है। आप इज्जतदार आदमी हैं। अब आपके एक तरफ जेल है और दूसरी तरफ पैसा! सोच लो---? मैं आपकी पचास तो नहीं बीस लाख में जान छुड़वा दूंगा। पुलिस के भी इसी में हैं। कुछ सौदेबाजी के बाद मामला बारह लाख पर तय हो गया। आज डॉक्टर बारह लाख रुपए बैग में डालकर देने के लिए घर से निकलने लगा तो वो हट्टा-कट्ठा पुलिसिया उनके घर ही आ पहुंचा और बोला- डॉक्टर साहब कल शाम की खबरें नहीं सुनी आपने। सरकार ने कानून और सख्त कर दिया है। आप तो जानते ही हैं कानून जितना सख्त किया जाता है हमारे रेट उतने ही बढ़ जाते हैं। सख्त कानूनों से उस औरत जैसे असली गुनाहगारों को तो कोई फर्क नहीं पड़ता! तुम जैसे बेगुनाह बेवजह फंस जाते हैं। हम जैसे कानून के रखवाले और ज्यादा मोटा कमा जाते हैं। अब बारह लाख से काम नहीं चलेगा। अब आपको अपनी जान छुड़वानी है तो अठारह लाख देने होंगे। सुना है तुम भी विरोध प्रदर्शनों में जाते थे? और सख्त कानून की मांग करते थे? हा-हा-हा और मांगो सख्त कानून---! कहते-कहते जैसे ही वह बायें घूमा उधर डॉक्टर की बीवी को अपने कैमरे से उस सब की वीडियो रिकार्डिंग करते देख उस हट्टे-कट्टेे पुलिसिये की सख्ती एकाएक ढीली पड़ने लगी।

 

*****
    

पूछताछ करें