अंजू शर्मा

सुबह ऐसे आती है

 

कुछ लोगों के लिए कॉफी का एक मग सिर्फ कॉफी मग नहीं होता। आपका स्ट्रैस बस्टर ही नहीं हमराज भी हो सकता है कॉफी मग। खासतौर पर जब आप भरे-पूरे घर में अकेले हों तो इसी कॉफी के मग से बतियाया जा सकता है, शिकायतें की जा सकती हैं, गिले-शिकवे किए जा सकते हैं, दुलराया जा सकता है। और तो और मन हो तो एक-एक सिप के साथ गुलाम अली को ‘रंजिश ही सही.... ’ गाते सुनते हुए नॉस्टैल्जिय....

Subscribe Now

पूछताछ करें