उर्मिला शुक्ल

प्रेम धार तलवार की

प्रेम जीवन का शाश्वत सत्य है। सृष्टि का आधार ही प्रेम रहा है और साहित्य का भी। तभी तो विश्व की हर भाषा में प्रेम कहानियां लिखी गयीं हैं। भारतीय साहित्य भी इससे अछूता नहीं है और हमारे लोक में भी तो नल -दमयंती, रानी सारंगा और सदाव्रत, हीर-रांझा, शशि -पुन्नू जैसी कई-कई प्रेम कथाएं मिलती हैं। प्राचीन काल के  इन रूहानी प्रेम के किस्सों से लेकर आधुनिक कथा साहित्य तक, प्रेम के अने....

Subscribe Now

पूछताछ करें