नीरज नीर

विस्थापन

मछलियां बेचैन हैं।  
जीवित रहने के लिए 
मछलियों को सीखना होगा 
उड़ना।  
उड़ना ऊंचा, उड़कर बैठना 
वृक्ष की सबसे ऊंची 
फुनगियों पर।   
करना तैयारी 
देशांतर गमन की।  
पोखरा, अहरा, तालाब 
नदी, नालों के किनारों से दूर 
पानी से बाहर निकलकर 
पंख फड़फड़ाना  
जीना नए परिवेश में
अपने रूप, रंग और गंध से हीन।  
अपनी आत्मा को 
Subscribe Now

पूछताछ करें