अजित राय

कुछ कला जगत से

यह घटना एक सितंबर 2002 की है। राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के निर्देशक देवेंद्र राज अंकुर की पहल पर सम्मुख सभागार में हबीब तनवीर का 80वां जन्मदिन मनाया जा रहा था। तभी बंगलुरू से खबर आई कि हम सबके प्रिय रंगकर्मी बी-वी- कारंत नहीं रहे। एक दिग्गज रंगकर्मी के जन्मदिन पर दूसरे दिग्गज रंगकर्मी ने महाप्रस्थान किया था। यह वह दौर था जब हिंदी रंगमंच में बड़ी हलचल थी। हबीब तनवीर और कारं....

Subscribe Now

पूछताछ करें