अनीता नेगी

" प्रेम "

 मैंने कहा- मेरा प्रेम गन्ने के रस की तरह मीठा है ।

तुमने कहा-"गन्ने का रस ,

                गन्ने की देह का शोषण है 

                किसी के देह -सत्व का रस्वादन किया तो 

                 क्या किया ,

                 किसी की हत्या में रस ढूंढकर नही जिया     जा सकता है प्रेम ।"

....
Subscribe Now

पूछताछ करें