सुषम बेदी

मेखला उर्फ रसिकप्रिया उर्फ जैनी गौरडन

मेखला उसका असली नाम नहीं था. असली नाम तो जैनी था यानि कि जैनिफर गौर्डन. मेखला नाम तो उसके प्रेम दीवानी होने पर चुना था उसने--अपने कृष्ण की कमरिया पर मेखला बन लटक जाने वाली जनम जनम की प्रीति! राधा मीरा तो बस घिसे पिटे नाम हो गये थे, उसे कोइ अलग नाम खोजना था और मेखला उसे खूब भाया था.केशव और बिहारी की रागरंगमयी कविता का रस वह खूब लेती थी. कितने अनोखे हैं ये कवि. अद्वितीय. घाव करैं गंभीर.  बिं....

Subscribe Now

पूछताछ करें