अजित राय

खजुराहो में यथार्थ और फंतासी मिलकर एक नया जादुई संसार बनाते हैं।

अपने निर्माण के करीब एक हजार साल बाद भी खजुराहो के मंदिर नए संदर्भों में चर्चा के केंद्र में हैं। 6 मार्च 1999 की अलमस्त शाम जब तत्कालीन राष्ट्रपति के आर नारायणन ने खजुराहो में सहस्त्राब्दि समारोह की शुरुआत की थी तो केंद्र और राज्य सरकारों ने यहां की जनता से कई वायदे किए थे। उन वायदों का एक हिस्सा विश्व प्रसिद्ध खजुराहो नृत्य समारोह से भी संबंधित था जिसे अब 47 साल हो गए हैं। ....

Subscribe Now

पूछताछ करें