जयश्री रॉय

हरे जंगल की नीली लड़कियां 

पत्तों पर बरस कर भाप बन उड़ती धूप का रंग यहाँ हरा है! कमरे से, जहां वह खड़ा है,खुली खिड़की के फ्रेम में बंधा जंगल का पूरा परिदृश्य पानी-सा तरल और चमकदार दिख रहा, जैसे किसी चश्मे की ठहरी हुई सतह पर प्रतिबिंबित हो रहा- पारे की रुपहली कौंध से भरा हुआ... 
टेबल से चाय का प्याला उठा कर वह खिड़की पर आ खड़ा हुआ था, इस पुरसुकूं सुबह को अपनी त्वचा पर महसूस करने। भीतर किसी क़िताब का जमाने सेमुड़....

Subscribe Now

पूछताछ करें