अमिता नीरव

स्वतंत्रता के शिखर पर स्थित सिमोन-सार्त्र का प्रेम

सार्त्र औऱ सिमोन का जीवन स्वतंत्रता से आग्रह और स्वतंत्रता की चाह में हर तरह के विद्रोह और अनूठेपन की अभिव्यक्ति है। प्रेम के आदर्श में जहाँ स्व के समर्पण को ग्लोरिफाय किया गया, वहीं इन दोनों ने प्रेम में स्व के सहअस्तित्व को न सिर्फ स्वीकार बल्कि उसे जीकर दिखाया। इन दोनों अस्तित्ववादी और नारीवादी चिंतकों ने प्रेम को नए सिरे से परिभाषित किया, प्रेम को प्रेम के शिखर से ऊ....

Subscribe Now

पूछताछ करें