रोहित ठाकुर

प्रार्थना और प्रेम के बीच औरतें

प्रार्थना करती औरतें एकाग्र नहीं होती

वे लौटती हैं बार-बार अपने संसार में

जहां वे प्रेम करती हैं

प्रार्थना में वह बहुत कुछ कहती है

उन सबके लिए

जिनके लिए बहती है वह हवा बनकर

रसोईघर में भात की तरह

उबलते हैं उसके सपने

Subscribe Now

पूछताछ करें