वंदना गुप्ता

मैं नीली हंसी नहीं हंसती

मैं नीली हंसी नहीं हंसती 

कहा था तुमने एक दिन/बस उसी दिन से 

खोज रही हूं--- नीला समंदर 

नीला बादल, नीला सूरज 

नीला चांद, नीला दिल हां--- नीला दिल 

जिसके चारों तरफ बना हो 

तुम्हारा वायुमंडल सफेद आभा लिये नहीं 

सफेदी निकाल दी ह....

Subscribe Now

पूछताछ करें