सीमांत सोहल

दूसरे सिरे पर

दूसरे सिरे पर 

पता नहीं क्या है 

 

इस सिरे पर 

तो प्रेम है 

 

ये प्रेम ही 

दूसरे सिरे को 

देखने की दृष्टि देगा

--- 

 

कॉफी है

टेबल है

....
Subscribe Now

पूछताछ करें