-अनुवाद: पापोरी गोस्वामी

रम्यभूमि

गौरी के घर से निकल आने के बाद लाखेस्वर भी सड़क तक निकल आया था. योगमाया और बाकी लोगों के समझाने पर भी वो नहीं रुका था. योगमाया को छोड़कर घर के बाकी किसीने अब तक लाखेस्वर का ऐसा रौद्ररूप नहीं देखा था. तारा इतना डर गई थी कि उसने जोर से योगमाया का हाथ पकड़ रखा था.
लाखेस्वर सीधे लकड़ी की दूकान तक पंहुचा और महानंद के बारे में पूछताछ की. दूकान के लड़कों को कुछ पता नहीं था. फिर वो महानंद के ....

Subscribe Now

पूछताछ करें