श्रवण कुमार गुप्ता

भूख और मौत का रिपोर्ताज

“पिछले कई वर्षों से सैकड़ों शब्द, नाम, देश, समस्याएं और समाचार मेरे लिये बेमानी हो रहे हैं, होते जा रहे हैं, उनमें डेमोक्रेसी, चाइना, चुनाव, रेल-दुर्घटना, खाद्यान्न, भ्रष्टाचार, जनता, सत्यमेव जयते, कर्फ़्यू, फायरिंग, बाढ़-फ्लड, दहाड़, सूखा-जरी-सुखाड़ जैसी नित्य के समाचारों में इस्तेमाल होने वाले शब्द भी हैं जिनके बिना आजकल किसी का काम नहीं चल सकता… ‘फ्लड-बाढ़ दहाड़’ की तरह ‘ड....

Subscribe Now

पूछताछ करें