भारत यायावर

रेणु की कहानियों में राजनीतिक चित्रण

रेणु हिन्दी के एक ऐसे कथाकार थे, जो लेखन के साथ-साथ सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यकर्ता के रूप में अपने जीवन के प्रारम्भिक दौर में बेहद सक्रिय थे। वे भारत की दलगत राजनीति में सोशलिस्ट पार्टी से जुड़े हुए थे, किन्तु अन्य पार्टियों के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं से भी उनका संवाद होता रहता था। 1972 ई- में उन्होंने चुनाव भी लड़ा था, किन्तु निर्दलीय रूप में। विजय मोहन सिंह सही लिखते हैं....

Subscribe Now

पूछताछ करें