श्वेतांशु शेखर

अब कहानी प्रतिरोध या जन जागरण की नहीं रही

पल्लवः आपने लगभग 40 वर्षों का अनवरत लेखकीय जीवन पूरा किया है। इस दौरान आपने लगभग 250 कहानियां, समाचार पत्रोंतथा पत्रिकाओं में सैकड़ों लेख, कुछ नाटक तथा पांच उपन्यास लिखे हैं। आपकी लगभग 30 पुस्तकें प्रकाशित हैं तथा आपने दो महत्वपूर्ण पत्रिकाओं का सम्पादन किया है। कई महत्वपूर्ण रचनाकारों की कृतियों का अनुवाद किया है। आप अपनी इस पूरी यात्रा को किस प्रकार देखते हैं? क्....

Subscribe Now

पूछताछ करें