शोभा अक्षर 

ठौर 

ठौर 

हम स्त्रियों को खुद बनाना है अपना बाँध एकजुट होकर,सहेजना है एक-दूसरे का सम्मान,तभी तो स्त्री की ऊर्जा से जगमगाएगा पूरा समाज। दिव्या शुक्ला , हिन्दी कहानी के समकाल में एक  सुपरिचित लेखिका।  उनकी नयी किताब "ठौर"  कथा संकलन , रश्मि प्रकाशन से प्रकाशित है।  सात अद्भुत  कहानियों के इस संग्रह में रिश्तों की डोरी के धागे को रेशे-रेशे में बा....

Subscribe Now

पूछताछ करें