मुशर्रफ आलम जौकी

पानी की सतह

And the spirit of God moved upon the face of the waters.
‘और ख़ुदा की रूह पानी की सतह पर तैरती थी’
                                

-बाइबल से

एक ब्रहमण था। एक मुसलमान, एक दलित था।
हालांकि यह उस समय भी थे, जब शहर में पेड़ लगाने के साथ जानवरों की सुरक्षा के लिए ‘बाड़’ या फार्म बनाये जा रहे थे। यह कहानी वहीं से निकली, जहां कांटा चुभने के ....

Subscribe Now

पूछताछ करें