विजयानंद विजय

देश अपना

" ऐ बच्चे !रूको। " -  शहर में लगे कर्फ्यू के बीच हाथ में किताब-कॉपियाँ लिए एक बच्चे को सड़क पर आते देख ड्यूटी पर तैनात सैनिक ने उसे पुकारा।

बच्चा पास आया और मासूमियत से बोला - " हाँ अंकल। "

उसने देखा, बच्चे के चेहरे पर तनाव का कोई भी चिन्ह नहीं था। उसे आश्चर्य हुआ कि इतने दहशत भरे माहौल में वह बच्चा इतना निश्चिंत कैसे था।

उसने बच....

Subscribe Now

पूछताछ करें