अजित कुमार राय

 दूसरा विस्थापन  

रोटियों को गौर से देखो
तो उसमें पूरा ग्लोब नजर आएगा ।
बल्कि रोटियों के मुँह में
सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड संलक्ष्य है ।
धरती के चंद्रयुग के निर्व्यास विस्तार को
मापते वामन के विराट पाँव ।
छाले भरे काले पद - चिन्ह
रेखांकित करते हैं शाइनिंग इण्डिया को ।
कि सचमुच अच्छे दिन आ गए हैं स्वदेशी आंदोलन के ।
स्वदेश लौट आने के ।
जड़ों से जुड़ने का स्वर्ण युग
....

Subscribe Now

पूछताछ करें