प्रदीप कुमार शर्मा

तेतर लड़का 


आज बिशुनिया अपनी जिंदगी की अंतीम सांसे ली। अब कोई दर्द नहीं कोई कराह नहीं। बस नींद और गहरी नींद। बहुत दर्द सह ली। उसके चेहरे से ऐसे लग रहा था जैसे वह कल की अपेक्षा आज चीरनीद्रा में बहुत सुकुन से सो रही है। बिशुनिया के असह्य कमर दर्द ने उसे कैंसर के रोग में बदल दिया था। दर्द तो पहले भी था लेकिन तब वह जवान थी। तब वह अपने पति हरिया के साथ नई नई ही इस शहर में आई थी। नये शहर में न....

Subscribe Now

पूछताछ करें