मूल्यांकन

  • घुटती आज़ादी की ख़ौफ़नाक़ तस्वीरें और उनका एक अलग तर्जुमा

    नए भारत में आज़ादी एक बदनाम शब्द है। नहीं, बदनाम से भी ज़्यादाये एक ख़ौफ़नाक़ शब्द बन चुका है। इस शब्द के इस्तेमाल क

    पूरा पढ़े
  • ‘कंथा’ : सीवन को उधेड़ने का प्रयास  

    जयशंकर प्रसाद की जीवनी को आधार बनाकर लिखा गया उपन्यास है ‘कंथा’. श्याम बिहारी श्यामल ने बरसों की मेहनत के बाद इस उप

    पूरा पढ़े
  • स्त्री मन का प्रवेश द्वार 

    प्राकृतिक रूप मेंस्त्री संरचनापुरुषों से अलग है,लेकिन पितृसत्तात्मक परिवेश ने भी उसकी देह और दिल को अपनी सुविधान

    पूरा पढ़े
  • मुकम्मंल घर की तलाश में

    हिन्दीं और छत्तीमसगढ़ी की जानी-मानी रचनाकार डॉं0 उर्मिला शुक्ल  ने कहानी, कविता, संस्म़रण, यात्रा वृतांत की कई पुस्

    पूरा पढ़े
  • तुम्हारी चीख ही हो अंतिम

    -विचार बिना किसी काट-छांट, संपादन, झिझक व डर के ज्यादा मुखर तरीके से दर्ज कर सकती हैैं। स्त्रियां कर भी रही हैं। इनकी

    पूरा पढ़े

पूछताछ करें