गीत/गजल-लघुकथाएं

  • वंचनाओं ने हमें पाला दुलारा 

    शाम की खामोशियों में गुम हुई आवाज जैसा  एक साया था अभी तक छुप गया हमराज जैसा 

    पूरा पढ़े

रचनाकार

पूछताछ करें