हाशिए पर हर्फ

  • एक आम आदमी का हलफनामा 

    विस्तार में जाने से पहले यह स्पष्ट कर दूं कि यह हलफनामा किसी मुकदमे में जमानत के लिए नहीं तैयार कर रहा हूं, न ही कोई स

    पूरा पढ़े
  • माफ करें, आपका वक्त खराब किया 

    वैधानिक चेतावनी : भावुकता विकास के लिए हानिकारक और मौजूदा दौर में असभ्यता है। गुजारिश है कि इसे वे नहीं पढ़े जो उदा

    पूरा पढ़े
  • आलोचकों का अकेलापन

    -यह सम्पादकीय ‘पाखी’ के अक्टूबर 2010, के अंक से लिया गया है 

    पूरा पढ़े
  • दि ग्रेट इंडियन डेमोक्रेटिक सर्कस

    -यह सम्पादकीय ‘भवन्ति’ के मई-जून 2019, के अंक से लिया गया है

    पूरा पढ़े
  • सफ़ेद हो रही इस रात में---

    -यह सम्पादकीय ‘पाखी’ के फ़रवरी-2018 अंक से लिया गया है

    पूरा पढ़े

पूछताछ करें