संपादकीय

  • बस कुछ यूं ही

    पिछले दिनों मुझे एक संदेश मिला। एक मोहतरमा ने सूचित किया कि वे पुणे से दिल्ली आ रही हैं। मिलना चाहती हैं ताकि अपनी द

    पूरा पढ़े
  • जड़ विचारधाराओं के खतरे

    अरे! ये तो बड़ा ही झंझटी मामला है। ‘पाखी’ की शुरुआत तो केवल साहित्य के प्रति अनुराग के चलते की थी। नहीं तब हल्का-सा भ

    पूरा पढ़े
  • अंधेरे के गीत

    आज का समय उन्माद के दौर का समय है।

    पूरा पढ़े
  • कुछ अपनी नाकामी पर

    दरअसल, विचारधाराओं के मोहपाश का नतीजा यह रहा कि आयातित मूल्यों को ढोते-ढोते कथित धर्मनिरपेक्षवादी अपनी ही संस्कृ

    पूरा पढ़े
  • नशे की गर्त में देश

    धर्म और राष्ट्रवाद इन दिनों सबसे ज्यादा पसंदीदा नशा बन चुका है। नशा चाहे कोई भी क्यों न हो, नुकसानदेह ही है। अमीर बन

    पूरा पढ़े
  • यदि साहित्य समाज का दर्पण है तो...

    ‘देह का गणित’ एक सत्य है। ऐसा सत्य जिसे सामाजिक अथवा वैज्ञानिक कारणों के बरक्स कटु सत्य, मानसिक विकृति आदि नाम दिय

    पूरा पढ़े
  • गा हमारी जिंदगी कुछ गा

    Hope is the dream of a walking man -Aristotle

    पूरा पढ़े

पूछताछ करें