कहानी

  • मेरी जैसियां

    जब से यहां लाई गई हूं तब से यही एक लाइन मन में चल रही है। वैसे काम तो मैेंने फांसी पाने लायक ही किया था। पुराना समय हो

    पूरा पढ़े
  • इलाहाबाद डायरी से

    भट्ट साहब बड़े ‘लल्लन टाप’ आदमी थे, मुझ पर उनकी असीम कृपा थी। मुझसे ज्यादा सम्भवतः किसी पर भरोसा नहीं करते थे। और हम

    पूरा पढ़े
  • छावनी में घर

    डिनर करने के बाद जयदेव आदतन जब स्टडी रूम में आया, तो एक बार फिर वही विचार उसके दिमाग में कौंधा, विचार था- कई पुराने तथ

    पूरा पढ़े
  • लावारिस

    चीरफाड़ घर के आगे लोगों का हुजूम लगा था। शहर के संभ्रात लाला हरसरनदास के पुत्र का किसी ने मर्डर कर दिया था। वह लाला

    पूरा पढ़े
  • या अल्लाह हे राम

    अल्लाह मियां खैर करे! न जाने कहां जाकर ठहरेगी इस दुनिया की आबादी। ज़मीन तो बची ही नहीं रहने के लिए। कमबख़्त आसमान मे

    पूरा पढ़े
  • सुबह ऐसे आती है

    कुछ लोगों के लिए कॉफी का एक मग सिर्फ कॉफी मग नहीं होता। आपका स्ट्रैस बस्टर ही नहीं हमराज भी हो सकता है कॉफी मग। खासत

    पूरा पढ़े

पूछताछ करें