कहानी

  • यह दुनिया अब भी सुंदर है

    छींजते चांद की जर्द रोशनी फूस और नारियल के  जीर्ण-शीर्ण झोपड़ों में कोई रंग नहीं भर पायी थी अभी। फिर भी चेन्नई के इस

    पूरा पढ़े
  • डिप्टी साहब का लोटा 

    सुरेश और सुदेश। दोनों दोस्त। दोनों पड़ोसी। दोनों ही हमउम्र। स्कूल में भी दोनों एक ही कक्षा के छात्र। कक्षा पांच के

    पूरा पढ़े
  • सिलबट्टा शुक्ल का दांपत्य 

    पिताजी को शिलाजीत अतिप्रिय थी और माताजी का मन सिलबट्टा पर पिसी अमिया की चटनी में अटका रहता। इस तरह इन दोनों के साझा

    पूरा पढ़े
  • कुनैन

    मोहित तिवारी बालाजी स्टील कंपनी (बास्को) के मजदूर यूनियन का अध्यक्ष था और सनातन विश्वकर्मा उपाध्यक्ष। दोनों एक ही

    पूरा पढ़े

पूछताछ करें