गजल

  • फ़रहत दुर्रानी ‘शिकस्ता’

    किसी रिश्ते का रेशम झूट से सुलझा नहीं है शिकस्ता अहद ओ पैमां से भी ये निभता नहीं है!

    पूरा पढ़े

पूछताछ करें